Display ad

आखिर इतनी बड़ी रकम का ED करती क्या है?आखिर वो जाता कहां है, क्या होता है उसका?

 ED या IT रेड में जो नोट और सोना-चांदी जब्त करती है आखिर वो जाता कहां है, क्या होता है उसका?


income tax और ed वाले जो पैसे जब्त करते हैं उसका क्या होता है? कहां रखा जाता है,किसको मिलता है पैसा?,जानिए संजय राउत के घर ईडी के छापे में अबतक क्या-क्या हुआ? | sanjay raut ed raid,ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी,हिंदी न्यूज़,हिंदी समाचार,ताजा खबर,बिहार न्यूज,जनता जंक्शन,न्यूज़,राज्य-शहर,who is chikoti praveen kumar against whom ed is conducting raids?,ed raids railway contractor’s house in rs 100 crore fraud,agencies such as ed,cbi 'working under centre's pressure'

आखिर क्यों आया अचानक बदलाव,रवीश कुमार का प्राइम टाइम,पांच गाड़ियां,न्यूज़,राज्य-शहर,हिंदी न्यूज़,मनी लॉन्ड्रिंग,बांके बिहारी मंदिर,फूट-फूटकर रोई अर्पिता,ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी,प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग,प्राइम टाइम रवीश कुमार के साथ,partha chatterjee,partha chatterjee tmc,bengal cm mamata banerjee,cm mamata banerjee removed partha chatterjee,partha chatterjee removed from tmc,partha chatterjee ssc scam,school jobs scam,partha chatterjee latest news



ईडी की रेड को लेकर खबरें आप सब पढ़ते-सुनते और टीवी पर देखते होंगे. इसमें ईडी जब्त नोटों से ED लिखती है, ज्वेलरी दिखाई जाती है. फिर उस माल को बड़ी-बड़ी संदूकों-पेटियों में भरा जाता है. 

गाड़ी में चढ़ाने का फोटो या वीडियो भी देखा होगा आपने. पर क्या आपको पता है इन पैसों का होता क्या है, कहां रखा जाता है, किसके खाते में जमा होता है?

आखिर इतनी बड़ी रकम का ED करती क्या है?

सबसे पहले इस बात को जानना जरूरी है कि आखिर ED को किसी के घर पर जाकर छापा मारने का अधिकार कहां से मिलता है. दरसल प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) 2002 के तहत प्रवर्तन निदेशालय (ED) को संपत्ति जब्त करने का अधिकार होता है. 


जब्त किए गए सामान का क्या होता है?
ED की रेड के दौरान जब्त की गई चीजों जैसे- कैश, गहने और प्रॉपर्टी का पंचनामा बनाया जाता है. इसमें सामान जब्त होने वाले व्यक्ति और अन्य दो गवाहों के हस्ताक्षर होते हैं. 

ED के द्वारा जब्त की गई प्रॉपर्टी
अगर किसी रेड के दौरान ED प्रॉपर्टी के कागजात जब्त करता है, तो PMLA के सेक्शन 5 (1) के तहत संपत्ति को अटैच करने का अधिकार है. अदालत में यह साबित होने पर सरकार इसे अपने कब्जे में ले सकती है. PMLA के तहत ED को अधिकतम 180 दिनों संपत्ति को अटैच करने का अधिकार होता है और अगर वो अदालत में इसे सही नहीं ठहरा पाती तो प्रॉपर्टी रिलीज हो जाती है. 

कॉमर्शियल प्रॉपर्टी के मामले में अटैच होने के बाद भी आरोपी उसका उपयोग कर सकता है, जब तक की उस पर कोर्ट का फैसला नहीं आ जाता. 

ED के द्वारा जब्त किए गए गहने
ED अगर रेड के दौरान सोने-चांदी के कीमती गहने बरामद करती है, उसे सरकारी भंडारघर में जमा कर दिया जाता है. साथ ही रेड के दौरान मिले कैश को भी सुरक्षित भंडारघर में रखा जाता है. कई मामलों में जब्त संपत्तियां सालों तक यूहीं पड़ी रहती है और खराब होने लगती है, क्योंकि कई मामलों में फैसला नहीं हो पाता है. जबकि अगर संपत्ति में वाहन या किसी भी तरह की चल संपत्ति होती है तो उन्हें सेंट्रल वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन के वेयरहाउस में रखवा दिया जाता है. यहां की पार्किंग फीस का भुगतान संबंधित एजेंसी करती है. कई केस में ये चल संपत्तियां नष्ट हो जाती हैं. हालांकि इनकी देखरेख के एक एजेंसी बनाने का प्रावधान किया गया है, लेकिन अभी तक इसका गठन अब तक नहीं हो पाया है.

नोटों की गड्डी की क्या होता है?
ईडी या आयकर विभाग एक-एक रुपये का हिसाब रखता है. नोटों के हिसाब से गड्डियां बनाता है. कितने 200, 500 और अन्य नोट हैं. नोटों पर अगर किसी तरह के निशान मिलते हैं तो या फिर उनमें कुछ लिखा होता है या फिर लिफाफे में हों तो उसे एजेंसियां अपने पास रख लेती हैं. इनका इस्तेमाल सबूत के तौर पर किया जाता है.

 बाकि बैंकों में जमा कर दिया जाता है. ED-IT इन नोटों को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया या फिर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में केंद्र सरकार के खाते में जमा कर दिया जाता है. अगर मामला राज्य से संबंधित छापेमारी का है तो फिर स्टेट सरकार के खातों में जमा कर दिया जाता है. हालांकि कई बार जांच एजेंसियां कुछ पैसा इंटरनल ऑर्डर से केस की सुनवाई पूरी होने तक अपने पास जमा रखती हैं.



अदालत करती है फैसला
1. ED के सामान जब्त करने के बाद मामला कोर्ट में पहुंचता है. अगर कोर्ट में कार्रवाई सही पाई जाती है, तो सारी संपत्ति पर सरकार का अधिकार हो जाता है. 
2. अगर कोर्ट में ED की कार्रवाई सही साबित नहीं होती है, तो सारा सामान उस व्यक्ति को वापस लौटा दिया जाता है. यह तभी होता है जब जिस व्यक्ति के पास से सामान बरामद हुआ है वो उसे लीगल साबित करने के सभी सबूत अदालत में पेश कर दे. 
3. कुछ मामलों में कोर्ट संपत्ति पर कुछ फाइन लगाकर उसे संपत्ति लौटाने का अवसर भी देती है.

Post a Comment

0 Comments

Close Menu