Display ad

Salasar Latest News:सालासर बालाजी मंदिर के प्रवेश द्वार को गिराये जाने पर बढ़ा विवाद,वीडियो वायरल

 सालासर बालाजी: मंदिर के प्रवेश द्वार को गिराये जाने पर बढ़ा विवाद, डैमेज कंट्रोल में जुटे गहलोत के मंत्री सालासर बालाजी: रात के अंधेरे में ढहाया राम दरबार की मूर्ति लगा भव्य प्रवेश द्वार, वीडियो वायरल, आक्रोश  राम दरबार पर बुलडोजर चलता देख बोले यूजर्स, अब राजस्थान से भी विदाई तय


चूरू जिले में देश प्रसिद्ध सालासर बालाजी (Salasar Balaji) के पास सुजानगढ़-सालासर मुख्य मार्ग पर स्थित राम दरबार की मूर्तियों (Idols of Ram Darbar) वाले पत्थर के भव्य प्रवेश द्वार रात के अंधेरे में ढहा (Demolishe) दिया गया. राम दरबार लगी मूर्तियों वाला यह प्रवेश द्वार जेसीबी और बुलडोजर से तुड़वाने का वीडियो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी (BJP) और हिन्दू संगठनों (Hindu organizations) में आक्रोश फैल गया है.

राजस्थान के चुरू जिले में सालासर हनुमान जी मंदिर के प्रवेश द्वार को जेसीबी से गिराए जाने के बाद अब विवाद शुरू हो गया और लोग गहलोत सरकार पर निशाना साध रहे हैं.  ऐतिहासिक प्राचीन मंदिर के प्रवेश द्वार को गिराए जाने से लोग नाराज हैं.


बीजेपी कार्यकर्ताओं और हिंदू संगठनों के लोग धरने पर बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करने लगे. इस दौरान दोनों तरफ सैकड़ों वाहनों की कतारें लग गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझाने की कोशिश की लेकिन धरने पर बैठे लोग उच्चाधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे.


दरअसल सालासर-सुजानगढ़ में फोरलेन सड़क बनाने के लिए इस रोड को चौड़ा किया जाना था. इसी दौरान पीडब्ल्यूडी के ठेकेदार ने प्रवेश द्वार को गिरा दिया. पूरे मामले को लेकर उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि वो इस मामले को लेकर आंदोलन करेंगे और इसे विधानसभा में भी उठाएंगे.


वहीं इस मामले को लेकर कोई भी प्रशासनिक अधिकारी कुछ भी कहने को तैयार नहीं हुए, जिला कलेक्टर की बात करें तो वो भी होली मनाने के लिए जिले से बाहर गए हुए हैं.


राजस्थान से कांग्रेस से बाहर करने की चेतावनी
जेसीबी मशीन से चूरू शहर के एक एंट्री गेट पर बने रामदरबार को गिराने के मामला सामने आने के बाद यूजर्स कड़ी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इसमें एक यूजर ने लिखा है कि यूपी में बाबाजी का बुलडोजर अपराधियों पर चलता है और राजस्थान में गहलोत सरकार का रामदरबार पर। यूजर चांदनी परमार ने इंडियन नेशनल कांग्रेस के ट्विटर हैंडल पर ट्वीट को 'नफरत की डोज बढ़ाओगे, तो खुशियां कहां से लाओगे' को रीट्वीट कर लिखा है कि राजस्थान से आपको फेंकेंगे इस बार।


गेट टूटने के बाद लगा लंबा जाम, हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन
घटना के बाद जानकारी मिली है कि वायरल वीडियो के बाद हिन्दू कार्यकर्ताओं ने सुजानगढ़-सालासर रोड को जाम कर के विरोध प्रदर्शन किया। डेढ़ घंटे तक लगा जाम रात पौने आठ बजे खुल सका। धरने के दौरान हनुमान चालीसा का पाठ भी हुआ। दोनों तरफ से गाड़ियों की लम्बी कतारें लग गईं, जिसकी वजह से कई किलोमीटर लम्बे जाम से निपटना प्रशासन के लिए भी मुश्किल हो गया। पुलिस से आक्रोशित हिन्दू कार्यकर्ताओं ने मांग की कि सीनियर अधिकारियों को मौके पर बुलाया जाए।

अधिकारियों ने दी सफाई, यूजर्स को रास नहीं आई।


मिली जानकारी के अनुसार हंगामे के बाद डीएईएन बाबूलाल वर्मा और जेईएन नंदलाल मुवाल मौके पर पहुंचे। इसके बाद उनसे राम दरबार की प्रतिमा को तोड़ने का कारण पूछा गया। एईएन ने सड़क के चौड़ीकरण की बात करते हुए हाथ जोड़ कर माफ़ी मांगी। एईएन ने आश्वासन दिया कि सड़क का काम पूरा होने के बाद जो प्रवेश द्वार बनाएगा, उसमें भी राम दरबार की प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी। हालांकि यूजर्स को अधिकारियों का यह तर्क रास नहीं आ रहा है। एक यूजर ने लिखा है कि मेरे तो यह समझ मे ही नहीं आया कि इसमें ऐसा गलत(अवैध) क्या था, जो इसे तोड़ना ही पड़े । सड़क चौड़ी होनी थी तो एक लेंन इसके पास भी तो बनवा सकते थे ।


मामले के तूल पकड़ने के बाद गहलोत सरकार के कैबिनट मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि गेट को हटाने से पहले भगवान राम की मूर्ति को उचित तरीके से दूसरे स्थान पर ले जाया जाना चाहिए था.



Post a Comment

0 Comments

Close Menu