Display ad

रूस-यूक्रेन युद्ध से राजस्थान में आ सकता है बड़ा उछाल, जानिए क्या होगा महंगा।

 घरेलू गैस सिलेंडर के दामों में भी आ सकता है बड़ा उछाल, ​​​​​​​गोल्ड-डायमंड और कोयला भी होंगे महंगे।




रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का राजस्थान के लोगों की जेब पर भी असर होगा। पेट्रोल-डीजल-गैस के साथ सोना, कोयला और बिजली भी महंगे होंगे। युद्ध का भारत समेत राजस्थान में असर दिखना शुरू भी हो गया है। हाल ही 1 मार्च 2022 से पेट्रोलियम कम्पनियों ने कॉमर्शियल गैस सिलेंडर के भाव 105 रुपए बढ़ाए हैं। जयपुर में कॉमर्शियल सिलेंडर 2026.50 रुपए बिक रहा है। जबकि घरेलू गैस सिलेंडर के भाव फिलहाल 903.50 रुपए चल रहे हैं। जिसमें 300 रुपए तक की बढ़ोतरी हो सकती है।




गौड़ ने बताया कि पेट्रोल और डीजल दोनों के भावों में 20 से 25 रुपए लीटर तक बढ़ोतरी की सम्भावना है। जिससे लोगों, व्यापारियों और पेट्रोलियम कम्पनियों में अफरा-तफरी का माहौल है। फिलहाल पेट्रोलियम डीलर्स को पेट्रोल की सामान्य सप्लाई मिल रही है। लेकिन डीजल HPCL और BPCL दोनों बड़ी कम्पनियां राजस्थान में डिमांड के मुताबिक सप्लाई नहीं दे पा रही हैं। जयपुर के पास जोबनेर में भारत पेट्रोलियम का बड़ा डिपो जयपुर समेत एक चौथाई राजस्थान कवर करता है। HPCL का बगरू में बड़ा प्लांट है। दोनों ने डिमांड जितना डीजल देने से हाथ खड़े कर दिए हैं। डीजल एग्रीकल्चर, ट्रांसपोर्टेशन और इंडस्ट्री तीनों में लगता है। सभी जगह स्टोरेज शुरू हो गया है।

राजस्थान में बिजली घरों के लिए कोयले की भी किल्लत हो गई है। सूत्रों के मुताबिक राजस्थान सरकार की बिजली उत्पादन निगम लिमिटेड कम्पनी ने विदेशों से एक्सपोर्टेड कोयला महंगी रेट पर खरीदने के लिए टेंडर किया है। जिसमें 3.86 लाख टन कोयला खरीदने के लिए 14500 रुपए प्रति टन तक कीमत चुकानी होगी। 548 करोड़ रुपए का कोयला खरीदने पर महंगे कोयले का 450 करोड़ रुपए का भार पड़ेगा। जिसे फ्यूल सरचार्ज के तौर पर बिजली उपभोक्ताओं से वसूलने की तैयारी है। प्रदेश में 1 करोड़ 52 लाख बिजली उपभोक्ता हैं। एग्रीकल्चर के 15.41 लाख उपभोक्ताओं का फ्यूल सरचार्ज सरकार भरती है। बाकी 1 करोड़ 37 लाख उपभोक्ताओं को यह चार्ज चुकाना होगा।


रूस-यूक्रेन वॉर में डायमंड और सोना महंगा।

सोना और डायमंड के भावों में भी रूस और यूक्रेन युद्ध के कारण उछाल आया है। डायमंड का रफ माल रूस से आता है। जिसकी सूरत में कटिंग होकर जयपुर और राजस्थान में सप्लाई होती है। डायमंड में 25 फीसदी से ज्यादा की तेजी युद्ध के बाद आई है। सोने की कीमतों भी लगातार बढ़ रही हैं। बुधवार सुबह 24 कैरेट गोल्ड की कीमत जयपुर में 56 हजार छू गई। पिछले 10 दिनों में यह बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इससे पहले काफी समय से 48 हजार के आसपास यह भाव चल रहे थे। बाजार में खरीद और बिक्री (लेवाली और देवाली) दोनों नहीं हो पा रहे हैं। कुछ लोग युद्ध के कारण भाव और बढ़ने की उम्मीद कर रहे हैं। तो कुछ युद्ध जल्द शांत होने पर कीमतों में बड़ी कमी आने की आस लगाए हैं।



पानी के बुलबुले की तरह बढ़ी गोल्ड की कीमत

इंडिया ज्यूलरी फोरम,राजस्थान के सेक्रेट्री आशीष मेघराज ने बताया यह एक बबल (पानी के बुलबुले) की तरह है। युद्ध के हालातों में वर्ल्ड के बड़े बैंक शेयर मार्केट से निकालकर काफी पैसा गोल्ड में इन्वेस्ट करते हैं। इसलिए युद्ध होने तक शेयर बाजार गिरता है। सोने के भाव बढ़ते हैं। बड़े इन्वेस्टर्स दुनियाभर में गोल्ड और सिल्वर में पैसा इन्वेस्ट कर पार्क कर देते हैं। इसे सेफ हेवन या सुरक्षित निवेश कहा जाता है। इस वक्त भी ऐसे ही हालात बनते नजर आ रहे हैं। इसलिए गोल्ड की वेल्यू बढ़ी हुई नजर आ रही है। जबकि गोल्ड की एक्चुअल खरीददारी नहीं हो रही है। जब गोल्ड टूटेगा तो शेयर मार्केट रिकवर होगा।


गोल्ड और ज्यूलरी का होल सेलर्स ने माल खरीदना किया बंद

ज्वैलर्स एसोसिएशन जयपुर के पूर्व अध्यक्ष संजय काला ने बताया कि फिलहाल गोल्ड और ज्यूलरी के होल सेलर्स ने नया माल खरीदना बंद कर दिया है। क्योंकि आशंका है कीमतें गिरने पर महंगा माल अटका रह जाएगा। तो घाटा खाना पड़ेगा। भाव के बारे में श्योरिटी नहीं होने के कारण काम नहीं हो पा रहा है। रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच राजस्थान में डायमंड की कीमतें 25 से 90 फीसदी तक बढ़ चुकी हैं। जो 1 कैरेट की डायमंड पोलकी 25000 रुपए भाव आती थी, वह 45000 रुपए कैरेट हो गई है। पतले और छोटे साइज के डायमंड की कीमतों में भी 30 से 40 फीसदी का इजाफा हुआ है।



3.86 लाख टन कोयला खरीदने का टेंडर

रूस-यूक्रेन युद्ध छिड़ने के बाद कोयले की कीमत इंटरनेशनल मार्केट में और बढ़ गई हैं। फिलहाल राजस्थान की बिजली उत्पादन कम्पनी को कोल इंडिया और खुद की माइंस से करीब 2500 रुपए प्रति टन भाव पर कोयला मिल रहा है। लेकिन पूरा नहीं पड़ने के कारण 5 गुणा ज्यादा रेट पर कोयला विदेशों से खरीदने की तैयारी है। ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया से महंगा कोयला खरीदने का प्रोसेस चल रहा है। एनर्जी मिनिस्ट्री की गाइडलाइंस के मुताबिक 4 फीसदी यानी 3.86 लाख टन कोयला राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड ने खरीदने के लिए टेंडर लगाया है। जितना महंगा कोयला और उसका ट्रांसपोर्टेशन पड़ेगा,फ्यूल सरचार्ज के तौर पर तीनों बिजली कम्पनियां जयपुर डिस्कॉम,जोधपुर डिस्कॉम और अजमेर डिस्कॉम बिजली उपभोक्ताओं से उसकी वसूली करेंगी। सूत्र बताते हैं कि रूस पूरी दुनिया का 20 फीसदी थर्मल कोयला एक्सपोर्ट करता है। यूक्रेन से युद्ध के कारण रूस का एक्सपोर्ट बंद हो गया है। इसके अलावा बड़े युद्ध की आशंकाओं में सभी देशों ने कोयला और क्रूड का स्टॉक करना शुरू कर दिया है। जिसमें खास तौर पर चीन, ऑस्ट्रेलिया, यूरोपियन और अफ्रीकन देशों के साथ ही उत्तर और दक्षिणी अमेरिका शामिल हैं। एक्सपोर्ट घटने के कारण भी कीमतों में इंटरनेशनल उछाल आया है।


Post a Comment

0 Comments

Close Menu