Ad Code

UPSC Topper Shubham Kumar Biography in Hindi। UPSC शुभम कुमार का जीवन परिचय।

 IAS Topper Shubham Kumar Biography in Hindi, Wiki, Age, Affairs, Caste, Net Worth 



By abtakrajasthan.in 

दोस्तों, सभी को अपने जीवन में कुछ ऐसा मुकाम हासिल करने का सपना होता है, जिसकी शोर हर जगह सुनाई दे। अगर ये सपना upsc एग्जाम क्रैक करने का हो तो इससे बड़ी और क्या बात हो सकती है? बिहार के एक छोटे से शहर से निकला एक लड़का कुछ ऐसा कारनामा कर दिया जिसकी सफलता की गूंज पूरे देश को सुनाई दिया। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन हो सकता है? हम बात कर रहे हैं बिहार के ऐसे होनहार लड़के के बारे में जिसने UPSC टॉपर बनकर न सिर्फ अपनी पहचान पुरे देश में बनाई, बल्कि अपने सफलता से लाखों युवाओं के लिए आदर्श बन गए। ऐसा कारनामा करने वाले हैं यूपीएससी टॉपर शुभम कुमार। लेकिन क्या आप जानते हैं उनके सफलता के पीछे कितनी मेहनत लगी होगी, उनके पढ़ाई करने का क्या तरीका होगा, लोग उनसे क्या सीख सकते हैं? आखिर कौन है upsc टॉपर शुभम कुमार?



शुभम कुमार की शिक्षा ।

Shubham Gupta IAS educational Qualification UPSC में आल इंडिया रैंक (AIR) 1 पाने वाले शुभम ने 10th विद्या विहार आवासीय विद्यालय पूर्णिया से की है। जिसके बाद 12th की पढ़ाई चिन्मय विद्यालय बोकारो (Chinmaya Vidyalaya Bokaro) की है।


Who is UPSC Topper Shubham Kumar ?

शुभम कुमार ने  यूपीएससी में आल इंडिया रैंक 1 हासिल किया है , टॉप किया है।  (Shubham is UPSC CSE IAS 2020 Topper.)


Shubham Kumar Age ?

शुभम कुमार की उम्र 24 वर्ष है। 


Where is Shubham Kumar's  Birth Place ?

शुभम का जन्म बिहार के कटिहार जिले में हुवा है।


What is the Name of Shubham Kumar 's Father 

 शुभम कुमार के पिता का नाम देवानंद सिंह है। 


शुभम कुमार ने कितना तक पढ़ाई किया है? 

Ans: बीटेक, आईआईटी मुंबई

 Q. शुभम कुमार यूपीएससी टॉपर का रैंक कितना है? 

Ans: AIR-1 

Q. शुभम ने कितने प्रयास में यूपीएससी टॉप किया है? 

Ans: तीसरे प्रयास में।



Shubham Kumar Success Story In Hindi सिविल सर्विस में जाने से पहले शुभम संयुक्त राज्य अमेरिका में एक शोधकर्ता के रूप में काम कर चुके हैं। लेकिन काम करने के दौरान इनको एहसास हुआ कि जीतना मेहनत दूसरे देश के लिए कर रहा हूँ उतना मेहनत अपने देश के लोगों के सेवा के लिए करूँ तो ज्यादा बेहतर होगा। 

अपने इसी सोच के साथ ये अमेरिका से वापस भारत आ गए और सिविल सर्विस की तैयारी करने लगे।  आपको बता दें कि शुभम का सिविल सर्विसेज में उनका यह तीसरा प्रयास है। 

इससे पहले वे 2018 में परीक्षा दिए थे लेकिन तब वो इसमें पास नहीं हो पाए थे। जिसके बाद शुभम ने हार मानने के बजाय और कड़ी मेहनत की और 2019 में दुबारा परीक्षा दिए। इनमें इनका रैंक 290 आया। रैंक के अनुसार इनको इंडियन डिफेंस एकाउंट सर्विसेज मिला। जिसके बाद वे ट्रेनिंग करने पुणे चले गए। लेकिन इन्होंने हिम्मत नहीं हारी और मेहनत जारी रखा। जिसके बाद 2020 में तीसरी बार यूपीएससी की परीक्षा दिया। जिसके बाद तो जो हुआ वो इतिहास बन गया। शुभम ने जो सोचा भी नहीं था वो हो गया। इन्होंने पूरे देश में टॉप करके ये दिखा दिया कि अगर हिम्मत नहीं हारा जाए तो हर लक्ष्य को पाना मुश्किल नहीं है। 

रिजल्ट जारी होने के बाद से ही शुभम को शुभकामनाओं के सिलसिला शुरू हो गया है। इनके इस शानदार सफलता पर ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री गिरिराज सिंह ने कुमार को उनकी सफलता पर बधाई दी है। इसके अलावा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुभम को बधाई देते हुए कहा कि हमें आप पर गर्व है। 

हम आपके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं। सिविल सर्विस में सेलेक्शन होने के बाद शुभम ने दिए इंटरव्यू में बताया कि वह ग्रामीण भारत के विकास के लिए काम करना चाहते हैं। अगर मुझे बिहार कैडर मिला तो अति प्रसन्ता होगी। 

Shubham Kumar Strategy In Hindi 

शुभम ने दिए साक्षात्कार में बताया कि दुनिया की कोई भी परीक्षा क्यों न हो उसे पास करने का कोई शॉर्टकट तरीका नहीं है। खास करके यूपीएससी की परीक्षा पास करने के लिए आपको मन लगाकर मेहनत करनी ही होगी। अगर आप कुछ दिन तक लगातार मेहनत करते रहें तो आपको सफलता जरूर मिलेगी। साथ ही ये भी कहा कि हमें छोटी हार से हार नहीं मानना चाहिए, बल्कि उसका डंटकर सामना करना चाहिए और मेहनत करते रहना चाहिए। 


शुभम कुमार के बारे में ये जानकारी पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें धन्यवाद।।

Post a Comment

0 Comments

Close Menu