Ad Code

आज भारत बन्द की घोषणा: किसान-मजदूर जन मोर्चा के नेतृत्व में कार्यकर्ता बाजार बंद कराने रैली के रूप में निकलेंगे।

 

27 सितम्बर को भारत बन्द की घोषणा:तीन केन्द्रीय कृषि कानूनों के विरोध में बन्द आह्वान, किसान-मजदूर जन मोर्चा के नेतृत्व में कार्यकर्ता बाजार बंद कराने रैली के रूप में निकलेंगे।



केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 27 सितम्बर को भारत बन्द की घोषणा की गई है। संयुक्त किसान-मजदूर जन मोर्चा ने सभी व्यापारियों, व्यापारिक संगठनों और आम जनता से बंद को सफल बनाने की अपील की है। जयपुर में प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजाराम मील ने कहा कि देश के अन्नदाता किसान पिछले 10 महीने से दिल्ली के चारों ओर सभी तरह की मुसीबतों को झेलते हुए मोर्चा लगा कर बैठे हुए हैं। तेज सर्दी, गर्मी, आंधी, तूफान, बारिश के मौसम के बीच भी किसान सड़कों पर डटे रहे। केवल अपनी जायज़ मांगों के लिए आंदोलन करते हुए अब तक 625 से ज्यादा किसान अपनी शहादत दे चुके हैं। इसलिए अब सरकार को जगाने और अपनी एकता का ताकत दिखाने के लिए भारत बन्द का यह ऐलान किया गया है।

27 सितम्बर को सुुबह 10 बजे जयपुर में गवर्नमेंट होस्टल पर शहीद स्मारक से सभी किसान,मजदूर, छात्र, युवा, महिला सामाजिक संगठन इकट्‌ठा होंगे। सुबह 11 बजे से रैली शुरू होगी। यह रैली एमआई रोड, सांगानेरी गेट, बड़ी चौपड़, छोटी चौपड़, चांदपोल बाजार, संजय सर्किल,सिंधी कैंप बस स्टैंड,खासा कोठी सर्किल से होते हुए जिला कलेक्ट्रेट पर पहुंच कर ख़त्म होगी। उससे पहले सुबह 6 बजे से ही स्टूडेंट्स और युवाओं की टोलियां बाजारों में व्यापारियों से बाजार बन्द करवाने की अपील करते हुए घूमना शुरू कर देंगी।

कई संगठनों का मिला भारत बन्द को समर्थन

प्रेस कांफ्रेंस में अखिल भारतीय किसान सभा के संयुक्त सचिव डॉ.संजय माधव, डॉ. सी.बी.यादव, किसान आर्मी किसान एकता मिशन के अध्यक्ष डॉ.सौरभ राठौड़, समग्र सेवा संघ के सवाई सिंह, भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव के.सी.घुमरिया, एटक के प्रदेश महासचिव कुणाल रावत,समाजवादी किसान मोर्चा के शैलेन्द्र अवस्थी, एनएफआईडब्ल्यू से सुनीता चतुर्वेदी, राजस्थान किसान सभा के रमेश शर्मा, किसान यूनियन के चैनाराम चौधरी समेत किसान मजदूर जन आंदोलन की अगुवाई करने वाले नेता मौजूद रहे।





Post a Comment

0 Comments

Close Menu