Ad Code

केरल में कोरोना ब्लास्ट:संक्रमण दूसरे राज्यों में फैला तो तीसरी लहर का खतरा,संक्रमण की डरावनी रफ्तार

Covid मैनेजमेंट के लिए दुनिया में तारीफ पाने वाले राज्य में                             संक्रमण की डरावनी रफ्तार


दो महीने पहले केरल सरकार के अधिकारियों ने बहुत भरोसे के साथ यह दावा किया था कि राज्य में कोरोना वायरस पर काबू पा लिया गया है। 12 मई को यहां नए केस पीक पर पहुंचे। तब एक दिन में 43,529 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद से केस लगातार कम होने लगे। अधिकारियों ने फिर दावा किया कि अगले दो-तीन हफ्तों में दूसरी लहर खत्म हो जाएगी। दूसरी लहर से बेहतर तरीके से निपटने के लिए दुनिया भर में केरल मॉडल की तारीफ हुई।



 नए आंकड़े बताते हैं कि देश के आधे से ज्यादा नए केस केरल में मिल रहे हैं। बुधवार को देश में 43,132 केस मिले, इनमें से 22,056 केरल के थे। शुक्रवार को भी यहां 20 हजार से ज्यादा केस मिले। लगातार चौथे दिन राज्य में संक्रमितों की संख्या 20 हजार से ज्यादा रही है।

संक्रमण दूसरे राज्यों में फैला तो तीसरी लहर का खतरा


डर है कि केरल से संक्रमण पड़ोसी राज्यों या देश के दूसरे हिस्सों में फैल सकता है। यह पहले से ज्यादा खतरनाक तीसरी लहर आने की वजह बन सकता है। चिंता की बात ये है कि केरल के 14 में से 7 जिलों में पिछले 4 हफ्तों में संक्रमण बढ़ रहा है।

इस वजह से सरकार ने आने वाले वीकेंड से राज्य में दो दिन लॉकडाउन लागू करने का फैसला लिया है। एक्सपर्ट्स भी कह रहे हैं कि आने वाले वक्त में आवाजाही पर सख्त पाबंदी लगाने की जरूरत हो सकती है।




ऐसे में सवाल है कि आगे का रास्ता क्या है?


एक जवाब लंबा लॉकडाउन हो सकता है, लेकिन राज्य सरकार इस विकल्प से बच रही है, क्योंकि इकोनॉमी पहले ही इसका बुरा असर झेल चुकी है। राज्य में कोई बड़ी इंडस्ट्री नहीं है। और केरल के कई परिवार विदेशों से आने वाले पैसों पर निर्भर हैं। कोविड के कारण इसमें भी कमी आई है। कई लोगों की खाड़ी की नौकरियां चली गई हैं और वे वहां से वापस नहीं आ पाए हैं। छोटे दुकानदारों को भी झटका लगा है।


Post a Comment

0 Comments

Close Menu